Connect with us

Jumma mubarak

1000+Jumma mubarak sharechat status

Jumma Mubarak

शुक्रवार को उर्दू में जुम्मा कहते हैं. यह दिन इस्लाम में पवित्र माना गया है और प्रत्येक आस्थावान मुसलमान शुक्रवार (जुम्मा) को नमाज जरूर अदा करते हैं. इस पोस्ट में बेहतरीन जुम्मा मुबारक शायरी ( Jumma Mubarak Shayari ) दिए हुए हैं. इन्हें जरूर पढ़े. इन शायरी को व्हाट्सऐप, फेसबुक, ट्विटर पर अपना स्टेटस बनाएं.

Jumma Mubarak

1000+Jumma mubarak sharechat status

 

या रब उनको सदा लाज़वाब रखना, मैं उनसे दूर हूँ उनका ख्याल रखना, मेरे जब भी हाथ उठे यही दुआ निकली, उन के गिर्द हमेशा खुशियों का जाल रखना.

Jumma Mubarak

सुकून” और “प्यार” ये चार चीज़ें ज़िन्दगी मैं ख़ूबसूरत बनती हैं,
अल्लाह पाक आप की ज़िन्दगी मैं किसी एक की भी कमी न करे.
अमीन …
जुम्मा मुबारक!
ए खुदा…….
बस यही गुजारिश है तुम से
धन बरसे या न बरसे पर
रोटी या प्यार को कोई न तरसे
Jumma Mubarak
अस्सलाम वालेकुम
हर किसी के लिए दुआ किया करो
किया पता किसी की किस्मत
तुम्हारी दुआ का इंतज़ार कर रही हो op
जुम्मा मुबारक

Jumma mubarak shayari

The five daily prayers, and from one Jumu’ah to the next, are an expiation for whatever sins come in between, so long as one does not commit any major sin. ” – Jumma Mubarak Quotes

Jumma Mubarak

 

May the angels protect you.  the sadness forget you.  goodness surround you. May Allah always bless you!

 

Be Happy, Not because everything is good, But because you can see the good side of Everything.

 

Allah Sab K Saat Hai Tasvir E Kainat Ka Aks  Dil Ko Jo Jaga Day Wo Ehsaas Ha ALLAH Ay Banda E Momin Tera Dil Kio Udas Ha Dil Say Zara Pukaar Teray Paas Ha Allah

 

O Allah, pardon me every one of my wrongdoings extraordinary and little, the first and the last those that are evident and those that are covered up. Jumma Mubarak!

Jumma mubarak quotes in hindi

 

वो चमक चाँद में है न सितारों में हैं, जो मदीने के दिलकश नजारों में हैं,
बेजुबान पत्थरों को भी बख्श दी जुबान
इतनी ताकत मेरे नबी के इशारों में हैं..

 

नमाज़ की तो वो शान है जो रोक देती हैं तवाफ़-ए-काबा को ए इंसान,तेरे कामों की क्या औक़ात है जिस के लिए तू नमाज़ को छोड़ देता हैं…

Jumma Mubarak

 

अल्लाह सारी ख्वाहिशें मुक्कमल किया करें,
जो खुदा की सजदे में सिर झुकाया करें

वो चमक चाँद में है न सितारों में हैं,
जो मदीने के दिलकश नजारों में हैं,
बेजुबान पत्थरों को भी बख्श दी जुबान
इतनी ताकत मेरे नबी के इशारों में हैं.

 

अल्लाह सब के साथ हैं, तस्वीर ए कैनात का अक्स हैं अल्लाह,
दिल को जो जगा दे वो एहसास हैं अल्लाह,
ए बाँदा ए मोमिन तेरा दिल क्यों उदास हैं,
दिल से ज़रा पुकार तेरे पास हैं अल्लाह…

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copyright 2020 © All Rights Reserved. Shayaridhamaka.com